Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan | राष्ट्रीय एकता दिवस पर भाषण एवं स्लोगन

यदि आप Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan देना चाहते हो और आपको तलाश है National Unity Day Speech in Hindi की तो आज यह लेख आपकी तलाश को यही खत्म करने वाला है, क्योंकि आज इस लेख में हम आपके लिए लेकर आए है एक जोशीला और ज्ञानवर्धक भाषण एकता दिवस के उपलक्ष्य पर. 

आप इस लेख में प्रस्तुत Unity Day Speech का प्रयोग एकता दिवस के किसी भी समारोह पर भाषण देने के लिए कर सकते हो. साथ ही यह लेख आपको हमारे देश की एकता के विषय में कई सारी जानकारियां प्रदान करेगा. 

इसके साथ सरदार वल्लभ भाई पटेल जी के बारे में भी आपको इस लेख के द्वारा जानकारी दी जायेगी जिससे आपको जानने को मिलेगा की Rashtriya Ekta Diwas क्यों और कब मनाया जाता है तथा उन्होंने देश के प्रति क्या क्या योगदान दिए है. इसके अलावा कुछ छोटे-मोटे प्रश्नों के भी जवाब आपको इस लेख के द्वारा दिए जायेंगे. 

यदि आप कोई विद्यार्थी हो और आपको स्कूल या कॉलेज में Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan देने के लिए तैयारी करनी है तो आपके लिए आज यह आर्टिकल फायदेमंद होने वाला है. चलिए फिर National Unity Day Speech in Hindi की शुरुआत करते है.

राष्ट्रीय एकता दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

हमारे ख्याल से राष्ट्रीय एकता दिवस कब मनाया जाता है इसके बारे में अधिकतर लोगों को जानकारी जरूर होनी चाहिए. परंतु जिन लोगों को इस विषय के बारे में जानकारी नही है उनको निराश होने की जरूरत नहीं है. हमने आपकी सुविधा के लिए यहां बताया है की National Unity Day कब मनाया जाता है. 

हम आपको यह बताना चाहेंगे की राष्ट्रीय एकता दिवस हर साल 31 अक्टूबर को पूरे भारत देश में मनाया जाता है. आगे हमने आपको यह भी बताया है की राष्ट्रीय एकता दिवस आखिर मनाया क्यों जाता हैं.

National Unity Day कब मनाया जाता है यह तो आपने जान लिया. अब जानते है की आखिर यह दिवस मनाया क्यों जाता है. राष्ट्रीय एकता दिवस भारत की स्वतंत्रता में योगदान देने वाले, 563 रियासतों का विलय करने वाले, देश की अखंडता को बनाए रखने के लिए हमेशा तत्पर रहने वाले लौह पुरुष के नाम से प्रसिद्ध सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में पूरे देश में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है. 

Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan
Unity

राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने का निर्णय 2014 में लिया गया था और तब से यह दिन मनाया जाता है.

Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan [1]

प्रधानाचार्य जी, उपप्रधानाचार्य जी, अध्यापकगण, यहां पर पधारे समस्त अतिथिगण, मेरे प्यारे मित्रों, भाइयों और बहनों, राष्ट्रीय एकता दिवस के उपलक्ष्य पर अपना बहुमूल्य समय निकालकर यहां पर उपस्थित होने के लिए आप सभी का मैं पूरे दिल से स्वागत करता हूं. आप सभी को मेरी ओर से राष्ट्रीय एकता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं. 

आज मैं खुद को बहुत ही ज्यादा भाग्यशाली मान रहा हूं/रही हूं. क्योंकि मुझे आज आप सभी के सामने राष्ट्रीय एकता दिवस पर भाषण के रूप में अपने विचारों को प्रकट करने का अवसर प्राप्त हुआ है. मुझे बहुत खुशी होगी यदि आप सभी मेरे विचारों को ध्यानपूर्वक सुनेंगे और राष्ट्रीय एकता दिवस के महत्त्व को समझने का प्रयत्न करेंगे.

क्या आपको पता है की राष्ट्रीय एकता का अर्थ क्या है? यदि नही तो सुनिए गौर से सुनिए…राष्ट्रीय एकता किसी भी देश में रहने वाले लोगों की सामूहिकता को दर्शाती हैं. यह दर्शाता है की एक देश में चाहे हम सभी विभिन्न धर्मों, क्षेत्रों, जातियों से संबंध रखते हो या फिर हम सभी अलग अलग भाषाएं हो क्यों न बोलते हो हम सब को हमेशा यह समझना चाहिए की हम सभी एक समान और एकजुट है. 

यदि एक समृद्ध और मजबूत राष्ट्र का निर्माण करना है तो हम सभी के अंदर एकता की भावना होना अति आवश्यक है. अतः भारत में हर साल मनाया जाने वाला राष्ट्रीय एकता दिवस हमारे राष्ट्र की एकता को ही दर्शाता है.

आप सभी को यह भी अच्छे से पता होगा की हमारा भारत देश एक ऐसा देश है जहां पर विभिन्न जन जातियों तथा क्षेत्रों से संबद्ध रखने वाले, साथ ही अलग अलग भाषाएं बोलने वाले और अलग अलग धर्म संस्कृति से संबंध रखने वाले लोग रहते है. अतः यह संभव नही है की इन सभी को एक साथ एकता के धागे में पिरोया जाए. 

इसके साथ यही विविधता ही कारण बना था हमारी गुलामी का. लेकिन इसका मतलब यह नहीं की हम पीछे हट जाए. बेशक एक साथ सबको एकत्रित नही किया जा सकता है लेकिन उनको यह तो महसूस करवाया जा सकता है की वह सभी एक ही राष्ट्र के है और एक समान है.

इस प्रयास में अपने कदम बढ़ाने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती के रूप में ही राष्ट्रीय एकता दिवस को हर साल 31 अक्टूबर को मनाया जाता है. उन्होंने अपना पूरा जीवन राष्ट्र की एकता और अखंडता को बनाए रखने के लिए समर्पित कर दिया था. अतः Rashtriya Ekta Diwas उनके कर्म को जीवंत बनाने का एक अवसर है. 

इस दिन सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की प्रतिमा जिसे Statue of Unity के नाम से जाना जाता है उसे फूलों की माला चढ़ाकर भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी जाती है. आपको शायद अंदाजा न हो लेकिन राष्ट्र की एकता, देश की मजबूती का गठन करने में तथा लोगों के विकास में भी मदद करता है.

राष्ट्रीय एकता का विचार सामाजिक और धार्मिक मतभेदों को दूर करने में अहम भूमिका निभाती है. अतः हमारे देश के लोग यदि एकता की भावना अपने दिल में लिए साथ खड़े रहे तो विभिन्न सामाजिक मुद्दों को जड़ से उखाड़ फेंका जा सकता है. 

पहले तो अधिकतर लोग अन्य धर्मों को हमेशा नीचा दिखाते थे और अपने धर्म को उनसे बेहतर बताते थे लेकिन आज राष्ट्र की एकता के विचार के द्वारा हमारे देश के देशवासी दूसरे धर्मो का सम्मान करते है और उन पर विश्वास भी रखते है. यह एकता की भावना देश को आगे बढ़ने में समर्थन प्रदान करती है. 

इस दिवस को मनाने के लिए विभिन्न विद्यालय, महाविद्यालय और अन्य शिक्षण संस्थानों में निबंध लेखन प्रतियोगिता, स्लोगन प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता और कुछ खेल प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है. यहां तक की मैराथन का भी आयोजन करवाया जाता है जिसमे विभिन्न जाति, धर्म और अलग अलग स्थानों से संबंध रखने वाले लोग हिस्सा लेते है. 

इसके साथ अपने इस भाषण को पूर्ण विराम देते हुए मैं बस आप सभी से इतना कहना चाहूंगा/चाहूंगी की हमे अपने देश की एकता और अखंडता को हमेशा बनाए रखना होगा. साथ ही एकजुट होकर राष्ट्र के हित के लिए कार्य करना होगा.

Speech on National Unity Day in Hindi [2]

श्रीमान प्रधानाचार्य जी, उपप्रधानाचार्य जी, अतिथिगण, अध्यापकगण, प्राध्यापकगण और यहां पर मौजूद मेरे प्रिय भाईयो तथा बहनों. आप सभी का हार्दिक स्वागत है राष्ट्रीय एकता दिवस के उपरांत आयोजित किए इस कार्यक्रम में जिसके माध्यम से आज मैं आपके समक्ष National Integration Day के विषय पर अपने विचार भाषण के रूप में प्रस्तुत करने जा रहा हू/रही हूं. 

यहां पर उपस्थित सभी लोग जब राष्ट्रीय एकता दिवस के बारे में सुनते होंगे तो आपके जहन में एकता शब्द घूमता होगा. लेकिन एकता के साथ दूसरा शब्द भी है जिसे हमेशा याद रखना जरुरी और वो है अखंडता. 

मैं आपको बताना चाहूंगा/चाहूंगी की राष्ट्रीय एकता एक ऐसी मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया है जो लोगों के बीच आपसी प्रेम और राष्ट्र हित के प्रति अपनेपन को दर्शाती है. राष्ट्रीय एकता ही राष्ट्र को सशक्त एवं संगठित बनाती है. विभिन्न धर्मों, संप्रदायों, जाति, वेश-भूषा, सभ्यता एवं संस्कृति के लोगों को एक सूत्र में पिरोने का कार्य राष्ट्रीय एकता द्वारा किया जा सकता है. 

अनेक विभिन्नताओं के बावजूद भी मिलजुल कर रहना राष्ट्रीय एकता का उद्देश्य है. हमारा भारत देश राष्ट्रीय एकता का जीता जागता उदाहरण है. जितनी विभिन्नताएँ हमारे देश में मौजूद हैं उतनी शायद ही विश्व के किसी और देश में देखने को कभी मिली है तथा शायद कभी देखने को भी न मिले. 

यहां पर अनेक जन जातियों व संप्रदायों के लोग, जिनके रहन-सहन, खान-पान और वेश-भूषा पूर्ण रूप से भिन्न हैं, एक साथ प्रेम भाव से निवास करते हैं. सभी के सभी राष्ट्रीय एकता के एक सूत्र में पिरोए हुए हैं. राष्ट्र की एकता जितनी शक्तिशाली  होगी वह राष्ट्र भी उतना ही बलवान होगा. 

इसी के चलते उस राष्ट्र की अखंडता व सार्वभौमिकता में कोई भी बाहरी शक्ति अपना प्रभाव नहीं डाल सकती है. लेकिन जब राष्ट्र की एकता कमजोर होने लगती है तो उस कमजोरी के चलते अनेक बाधाएं भी सामने निकलकर आने लगती है. यदि आप इसे और अच्छे से समझना चाहते हैं तो आप अपने इतिहास को उठाकर देख सकते हो.

जब कभी भी हमारी राष्ट्रीय एकता भंग हुई तब तब बाहरी शक्तियों ने हमारे ऊपर अपना प्रभुत्व स्थापित किया और इसका सबसे बड़ा उदाहरण है अंग्रेजों के हाथों हमारा गुलाम बन जाना. अतः किसी भी राष्ट्र की एकता, अखंडता और सार्वभौमिकता बनाए रखने के लिए राष्ट्रीय एकता का होना अति आवश्यक है. 

इसके साथ व्याप्त सांप्रदायिकता, जातिवाद, भाषावाद, क्षेत्रीयता आदि सभी राष्ट्रीय एकता के ऐसे अवरोधक तत्व है जो राष्ट्र की एकता में दरार पैदा करती है तथा उसे कमजोर बनाती है. इन सबके कारण ही लोगों के दिल और दिमाग में द्वेष की भावना पैदा होती है जो आगे चलकर राष्ट्र के पतन का कारण बनती है. 

यह पतन भविष्य में खून खराबे, मारपीट और दंगे फसाद को जन्म देते है. अतः ऐसी विनाशकारी समस्याओं से पार पाने के लिए समस्त राष्ट्र और पूरी दुनिया में एकता का भाव होना जरूरी है. समानता, एकता और अखंडता ही एक राष्ट्र को अनुशासन के साथ तरक्की की राह पर लेकर जा सकती है. 

राष्ट्रीय एकता दिवस मनाने का मूल उद्देश्य भी यही है और सरदार वल्लभ भाई पटेल जी ने भी इसी उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया था. अतः उनकी कुर्बानी का सम्मान करते हुए Rashtriya Ekta Diwas हर वर्ष 31 अक्टूबर को मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें > राष्ट्रीय एकता दिवस (National Unity Day) पर 2 बेहतरीन निबंध 

राष्ट्रीय एकता दिवस पर कुछ अच्छे नारे (Slogan) कौन से हैं?

राष्ट्रीय एकता दिवस पर कुछ अच्छे नारे (Slogan) निम्नलिखित है:

एकता हमारी पहचान है,

तभी तो हमारा देश महान है.

राष्ट्रीय एकता का बहुत बड़ा है प्रभाव,

इससे उत्पन्न होता देश में सदभाव.

राष्ट्रीय एकता में जो ताकत है

वो अतुलनीय और व्यापक है

राष्ट्रीय एकता के विषय में दो सबको ज्ञान,

देशहित के लिए चलाओ अभियान…

राष्ट्रीय एकता को बनाए रखना है, देश को सजाए रखना है.

Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan – FAQs

राष्ट्रीय एकता दिवस किसकी याद मे मनाया जाता है?

लौह पुरुष के नाम से प्रसिद्ध सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जयंती को चिन्हित करने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस हर वर्ष मनाया जाता है.

राष्ट्रीय एकता दिवस कब मनाया जाता है?

प्रत्येक वर्ष 31 अक्टूबर के दिन समस्त भारतवर्ष में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है.

राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मानते है?

भारत के राजनीतिक एकीकरण में अपना अहम योगदान देने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को याद करते हुए उनके जन्मदिवस को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है. उन्होंने भारत देश के 563 रियासतों का विलय किया तथा देश की अखंडता और एकता को बनाए रखने के लिए निरंतर प्रयास किए. अतः देश की अखंडता और एकता को सदैव जीवित रखने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है हर साल.

प्रथम राष्ट्रीय एकता दिवस कब मनाया गया?

प्रथम राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर, 2014 को मनाया गया था.

राष्ट्रीय एकता से आप क्या समझते हो?

राष्ट्रीय एकता का अभिप्राय है :– राष्ट्र के प्रति प्रेम की भावना जिसमें जाति, संप्रदाय, धर्म, भाषा, संस्कृति आदि के अंतर को भूल कर सभी को एक समान समझा जाए.

इस लेख में आज हम आप सभी के लिए दो सुंदर और जोशीले Rashtriya Ekta Diwas Par Bhashan लेकर प्रस्तुत हुए है जिनको आप अपने स्कूल, कॉलेज या किसी शिक्षण संस्थान तथा किसी समारोह में National Unity Day के दिन भाषण देने के लिए उपयोग में ला सकते हो.

Rashtriya Ekta Divas par slogan
Slogan on National Unity Day

साथ ही हमने आपको यह भी बताया है की राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों और कब मनाया जाता है? अतः हम आप लोगों से यही आशा करते है कि आप सबको यह लेख जरूर पसंद आया होगा. यदि यह लेख पसंद आए तो इसे अन्य पाठकों के साथ शेयर जरूर करें.

कृपया इस पोस्ट को शेयर करें!
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments